Friday, June 25, 2021
BREAKING
आप नेता चंदर मुखी शर्मा ने मुफ्त पौधारोपण अभियान शुरू किया; 1.11 लाख पौधे बांटे जाएंगे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत खरीफ फसलों का बीमा करवाने के लिए हरियाणा सरकार ने आगामी 31 जुलाई 2021 तक समय-सीमा बढ़ा दी है संत शिरोमणि सदगुरु भक्त कबीर दास की ‘वाणी’ समाज सुधार और ईश्वर भक्ति का ऐसा अद्भूत संगम है जिसे सदियों तक बार-बार दोहराया जाएगा: दुष्यंत चौटाला 27 जून, 2021 को प्रदेश के 13 जिलों में पोलियो उच्च जोखिम वाले क्षेत्रों में पोलियो उप-राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस (एसटीआईडी) के रूप में मनाएगा किसानों की आय बढ़ाने के लिए फसलों का विविधिकरण किया जाना बहुत जरूरी: जेपी दलाल सरकारी कॉलेजों के स्टॉफ को ग्रीष्मावकाश-2021 के दौरान किए गए कार्यों की एवज में अर्जित अवकाश का लाभ लेने के लिए प्रमाण देने होंगे ओलंपिक क्वालीफाई करने वाले 121 भारतीय खिलाडिय़ों में 30 हरियाणा से होना गर्व की बात: संदीप सिंह मुख्यमंत्री द्वारा भगत कबीर चेयर की स्थापना करने और भगत कबीर भवन के लिए 10 करोड़ रुपए का ऐलान मुख्यमंत्री द्वारा कर्मचारियों की शिकायतों के निपटारे के लिए मंत्रियों की निगरान कमेटी का गठन मुख्य सचिव द्वारा कोविड टीकाकरण से वंचित स्वास्थ्य कर्मियों और पारिवारिक सदस्यों को वैक्सीन लगाने के आदेश

वार्षिक राशिफल

9. धनु (वर्ष 2021)

May 06, 2021 12:56 PM

राशि शुभ दिनाँक : 2,3,9,10,11,15,16,19,26,28,29
राशि प्रतिकूल दिनाँक : 4,5,7,12,13,18,22,30,31
स्वास्थ्य: धनु राशि इस वर्ष भी शनि की साढ़े साती से प्रभावित रहेगी। धनु राशि के जातकों को नेत्र विकारों का सामना करना पड़ेगा। शनि का सम्बन्ध शरीर की वायु से भी है जिसके कारण पेट के रोगों में भी वृद्धि की आशंका रहेगी। जून से सितम्बर के बीच राशि स्वामी गुरु और शनि दोनों के वक्री होने से यदा-कदा बुखार और एलर्जी आदि से पीड़ित होने का भय बना रहेगा। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का प्रयास करें। आपकी राशि इस वर्ष शनि और केतू के मध्य पापकर्तरी प्रभाव में रहेगी। जिसके कारण आप काफी संवेदनशील रहेंगे। हालांकि वर्ष की शुरूआत में आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।
आर्थिक स्थिति: इस वर्ष आपकी आर्थिक स्थिति में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं। वर्ष की शुरूआत में कुछ कमी महसूस होगी। वर्ष के अन्त में भी जरूरत से ज्यादा धन खर्च करना उचित नहीं होगा। आपकी राशि से बारहवें भाव में पड़ने वाला ग्रहण अचानक धन हानि का कारक बन सकता है। कारोबारी यात्रा के निष्फल होने का भय रहेगा। वर्ष के मध्य में काफी धन लाभ होगा। बीमारियों में धन खर्च हो सकता है। नयी सम्पत्ति लेते समय सावधानी रखें। आर्थिक कठिनाइयों से बचने के लिये इस वर्ष सावधानी पूर्वक क्रय-विक्रय करें।
कौटुम्बिक एवं सामाजिक: परिवार में आपका सम्मान और वर्चस्व बढ़ेगा। बुजुर्गों की सेहत का ध्यान रखें। परिवार के सदस्यों के मध्य प्रेम भाव बढ़ेगा। व्यर्थ के विवादों में उलझने से बचिये। सामाजिक सम्बन्धों और गतिविधियों के कारण आपकी प्रतिष्ठा में बढ़ोत्तरी होगी। अनावश्यक भाग-दौड़ करनी पड़ सकती है। रिश्तेदारों से आपको काफी सहायता प्राप्त होगी। मार्च-अप्रैल के महीने में कोई नकारात्मक सूचना मिल सकती है। गुप्त शत्रु आपके विरुद्ध षड्यंत्र रच सकते हैं। जुलाई और दिसम्बर के महीने में आपको विरोधियों का सामना करना पड़ सकता है।
प्रणय जीवन: वैवाहिक जीवन में रोमांस की अधिकता रहेगी। छोटी-छोटी बातों को आसानी से सुलझा लेंगे। जीवनसाथी का भरपूर सहयोग मिलेगा। जीवनसाथी के लिये नये आभूषण खरीद सकते हैं। अप्रैल में गुरु के तीसरे भाव में प्रवेश के कारण वैवाहिक जीवन की समस्याओं का समाधान होगा। हालांकि जुलाई महीने में प्रेम सम्बन्धों को लेकर सतर्क रहना चाहिये। कठोर वाणी का प्रयोग करने से बचें। सुख की कुछ कमी महसूस हो सकती है।
विद्यार्थी जीवन: कैमिकल और फार्मा क्षेत्र से जुड़े लोगों का व्यापार बढ़ेगा। बच्चे पढ़ाई में काफी अच्छी रुचि लेंगे। सॉफ्टवेयर और विदेशी भाषा की शिक्षा ले रहे विद्यार्थियों को बेहतरीन नौकरी के अवसर मिल सकते हैं। नौकरी में आपको कठिन कार्य सौंपे जा सकते हैं। कड़ी मेहनत का सकारात्मक परिणाम मिलेगा। उच्चाधिकारी आपकी पदोन्नति कर सकते हैं। कृषि सम्बन्धी व्यापार से धन लाभ होगा। अप्रैल के बाद करियर में बदलाव कर सकते हैं। अपनी स्क्लिस को मांझने का प्रयास करना हितकारी होगा। अपने दायित्वों के प्रति ईमानदार रहेंगे। वर्ष की अन्तिम तिमाही में ज्यादा प्रयोग करना उचित नहीं होगा।
समाधान: वर्ष में दो बार अपने वजन के बराबर अन्न का दान करें। भोजन की पहली रोटी गाय के लिये निकाल दें।
राशि स्वामी : बृहस्पति, राशि नामाक्षर: भ, ध, फ, ढ, इँं, ऊँं  , नक्षत्र चरण नामाक्षर: ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढ, भे, आराध्य भगवान: श्री विष्णु नारायण, भाग्यशील रंग: पीला, भाग्यशील अंक: 9, 12, अनुकूल दिशा: पूर्व, राशि धातु: काँस्य, राशि शुभ रत्न: पुखराज, राशि अनुकूल रत्न: पुखराज तथा माणिक्य, राशि अनुकूल वार: बृहस्पतिवार तथा रविवार, राशि स्वभाव: द्विस्वभाव, राशि तत्व: अग्नि और राशि प्रकृति: पित्त।

Have something to say? Post your comment