Friday, July 01, 2022
BREAKING
एकनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, फडणवीस बने डिप्टी सीएम, पवार ने की शिंदे से बात लैंडस्लाइड में धंसा आर्मी कैंप:मणिपुर की टेरिटोरियल आर्मी के 30 से 40 जवान मिट्टी में दबे, 13 शव निकाले गए पंजाब पुलिस ने पकड़े लारेंस व रिंदा गिरोह के पांच शूटरों समेत 11 गुर्गे एमएसएमई से ही आत्मनिर्भऱ बनेगा भारत : प्रधानमंत्री Accolades for PGIMER’s Endocrinology Deptt in the recently held US ENDO 2022 Director PGIMER honours 12 Officers/Officials on their Superannuation today at PGIMER Postgraduate Institute of Medical Education & Research, Chandigarh Complex heart Surgery with world smallest heart pump saves 90 years old man at PGIMER Prof.Vivek Lal, Director PGIMER inaugurates a Clinical Simulator Lab at the Biomedical Instruments and Devices Hub (BID Hub), at PGIMER मुख्यमंत्री द्वारा ठेके के आधार पर काम कर रहे सभी योग्य कर्मचारियों की सेवाएं रेगुलर करने के लिए तीन सदस्यीय कैबिनेट कमेटी का गठन हरियाणा को मिला ‘एमएसएमई नेशनल अवार्ड’ में तीसरा स्थान

लेख

आओ अपने आयुर्वेद को जानें : डॉ. राजीव कपिला

November 09, 2021 08:18 PM

आयुर्वेद शब्द संस्कृत है: आयुर्वेद, जिसका अर्थ है जीवन और दीघार्यु का ज्ञान। हालांकि प्रयोगशाला प्रयोगों से पता चलता है कि यह संभव है कि आयुर्वेद में कुछ पदार्थों को प्रभावी उपचार के रूप में विकसित किया जा सकता है।
आयुर्वेद का इतिहास
पुरातत्ववेत्ताओं के अनुसार संसार की प्राचीनतम पुस्तक ऋग्वेद है। विभिन्न विद्वानों ने इसका रचना काल ईसा के 3,000 से 50,000 वर्ष पूर्व तक का माना है। ऋग्वेद-संहिता में भी आयुर्वेद के अतिमहत्त्व के सिद्धान्त यत्र-तत्र विकीर्ण है। चरक, सुश्रुत, काश्यप आदि मान्य ग्रन्थ आयुर्वेद को अथर्ववेद का उपवेद मानते हैं। इससे आयुर्वेद की प्राचीनता सिद्ध होती है। अत: हम कह सकते हैं कि आयुर्वेद की रचनाकाल ईसा पूर्व 3,000 से 50,000 वर्ष पहले यानि सृष्टि की उत्पत्ति के आस-पास या साथ का ही है।
आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथो के अनुसार यह देवताओं की चिकित्सा पद्धति है जिसके ज्ञान को मानव कल्याण के लिए निवेदन किए जाने पर देवताओं द्वारा धरती के महान आचार्यों को दिया गया। इस शास्त्र के आदि आचार्य अश्विनी कुमार माने जाते हैं जिन्होने दक्ष प्रजापति के धड़ में बकरे का सिर जोड़ना जैसी कई चमत्कारिक चिकित्साएं की थी। अश्विनीकुमारों से इंद्र ने यह विद्या प्राप्त की। इंद्र ने धन्वंतरि को सिखाया। काशी के राजा दिवोदास धन्वंतरि के अवतार कहे गए हैं। उनसे जाकर अलग अलग संप्रदायों के अनुसार उनके प्राचीन और पहले आचार्यों आत्रेय / सुश्रुत ने आयुर्वेद पढ़ा। अत्रि और भारद्वाज भी इस शास्त्र के प्रवर्तक माने जाते हैं। आयुर्वेद के आचार्य ये हैं— अश्विनीकुमार, धन्वंतरि, दिवोदास (काशिराज), नकुल, सहदेव, अर्कि, च्यवन, जनक, बुध, जावाल, जाजलि, पैल, करथ, अगस्त्य, अत्रि तथा उनके छ: शिष्य (अग्निवेश, भेड़, जतुकर्ण, पराशर, सीरपाणि, हारीत), सुश्रुत और चरक। ब्रह्मा ने आयुर्वेद को आठ भागों में बाँटकर प्रत्येक भाग का नाम 'तन्त्र' रखा । ये आठ भाग निम्नलिखित हैं :
क्रमांक     तंत्र     आधुनिक चिकित्सा का निकटतम विभाग
1     शल्यतन्त्र     -सर्जीकल तकनीक
2     शालाक्यतन्त्र     -इ एन टी
3     कायचिकित्सा     -जनरल मेडिसिन
4     भूतविद्या तन्त्र     -साइको थेरेपी
5     कौमारभृत्य     -पैडियेट्र्निक्स
6     अगदतन्त्र     -टॉक्सीकोलोजी
7     रसायनतन्त्र     -रीज्युनवेंशन एंड गेरिएट्रिक्स
8     वाजीकरणतंत्र     -विरलीफिकेशन, साइंस आॅफ एफ्रोडिसिआॅक एंड सेक्सोलोजी
इस अष्टाङ्ग (=आठ अंग वाले) आयुर्वेद के अन्तर्गत देहतत्त्व, शरीर विज्ञान, शस्त्रविद्या, भेषज और द्रव्य गुण तत्त्व, चिकित्सा तत्त्व और धातृविद्या भी हैं। इसके अतिरिक्त उसमें सदृश चिकित्सा (होम्योपैथी), विरोधी चिकित्सा (एलोपैथी), जलचिकित्सा (हाइड्रोपैथी), प्राकृतिक चिकित्सा (नेचुरोपैथी), योग, सर्जरी, नाड़ी विज्ञान (पल्स डायग्नोसिस) आदि आजकल के अभिनव चिकित्सा प्रणालियों के मूल सिद्धान्तों के विधान भी 2500 वर्ष पूर्व ही सूत्र रूप में लिखे पाये जाते हैं ।
आयुर्वेद का अवतरण
चरक मतानुसार (आत्रेय सम्प्रदाय)
आयुर्वेद के ऐतिहासिक ज्ञान के सन्दर्भ में, चरक मत के अनुसार, आयुर्वेद का ज्ञान सर्वप्रथम ब्रह्मा से प्रजापति ने, प्रजापति से दोनों अश्विनी कुमारों ने, उनसे इन्द्र ने और इन्द्र से भारद्वाज ने आयुर्वेद का अध्ययन किया। च्यवन ऋषि का कार्यकाल भी अश्विनी कुमारों का समकालीन माना गया है। आयुर्वेद के विकास में ऋषि च्यवन का अतिमहत्त्वपूर्ण योगदान है। फिर भारद्वाज ने आयुर्वेद के प्रभाव से दीर्घ सुखी और आरोग्य जीवन प्राप्त कर अन्य ऋषियों में उसका प्रचार किया। तदनन्तर पुनर्वसु आत्रेय ने अग्निवेश, भेल, जतू, पाराशर, हारीत और क्षारपाणि नामक छ: शिष्यों को आयुर्वेद का उपदेश दिया। इन छ: शिष्यों में सबसे अधिक बुद्धिमान अग्निवेश ने सर्वप्रथम एक संहिता (अग्निवेश तंत्र) का निर्माण किया- जिसका प्रतिसंस्कार बाद में चरक ने किया और उसका नाम चरकसंहिता पड़ा, जो आयुर्वेद का आधार-स्तम्भ है।
सुश्रुत मतानुसार (धन्वन्तरि सम्प्रदाय)
धन्वन्तरि ने भी आयुर्वेद का प्रकाशन ब्रह्मदेव द्वारा ही प्रतिपादित किया हुआ माना है। सुश्रुत के अनुसार काशीराज दिवोदास के रूप में अवतरित भगवान धन्वन्तरि के पास अन्य महर्षिर्यों के साथ सुश्रुत आयुर्वेद का अध्ययन करने हेतु गये और उनसे आवेदन किया। उस समय भगवान धन्वन्तरि ने उन लोगों को उपदेश करते हुए कहा कि सर्वप्रथम स्वयं ब्रह्मा ने सृष्टि उत्पादन के पूर्व ही अथर्ववेद के उपवेद आयुर्वेद को एक हजार अध्यायों तथा एक लाख श्लोकों में प्रकाशित किया और पुन: मनुष्य को अल्पमेधावी समझकर इसे आठ अंगों में विभक्त कर दिया। पुन: भगवान धन्वन्तरि ने कहा कि ब्रह्मा से दक्ष प्रजापति, उनसे दोनों अश्विनीकुमारों ने, तथा उनसे इन्द्र ने आयुर्वेद का अध्ययन किया।
आयुर्वेद का काल-विभाजन
आयुर्वेद के इतिहास को मुख्यतया तीन भागों में विभक्त किया गया है।

क्रमशः

Have something to say? Post your comment

और लेख समाचार

देश में निरंतर बढ़ती असमानता के लिए देश के नेता, कर्मचारी और हम सब लोग बराबर के जिम्मेदार : डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

देश में निरंतर बढ़ती असमानता के लिए देश के नेता, कर्मचारी और हम सब लोग बराबर के जिम्मेदार : डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

आओ अपने आयुर्वेद को जानें -4 : डॉ. राजीव कपिला

आओ अपने आयुर्वेद को जानें -4 : डॉ. राजीव कपिला

संघीय भारत के समक्ष बढ़ती चुनौतियाँ : सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

संघीय भारत के समक्ष बढ़ती चुनौतियाँ : सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

गरीब कौन ? : डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

गरीब कौन ? : डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

आओ अपने आयुर्वेद को जानें -3: डॉ. राजीव कपिला

आओ अपने आयुर्वेद को जानें -3: डॉ. राजीव कपिला

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.मनसुख एल. मांडविया ने समाज सेवक एवं वर्धान आयुर्वेदिक आर्गेनाइजेशन चंडीगढ़ के एम.डी.श्री  सुभाष गोयल जी को कोरोना वारियर्स सम्मान से नवाजा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.मनसुख एल. मांडविया ने समाज सेवक एवं वर्धान आयुर्वेदिक आर्गेनाइजेशन चंडीगढ़ के एम.डी.श्री सुभाष गोयल जी को कोरोना वारियर्स सम्मान से नवाजा

देश का नेता कैसा हो???: डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

देश का नेता कैसा हो???: डॉ. दलेर सिंह मुल्तानी, सिविल सर्जन (सेवानिवृत्त)

लोकतंत्र में महिलाओं का प्रतिनिधित्व: सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

लोकतंत्र में महिलाओं का प्रतिनिधित्व: सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

टोक्यो ओलंपिक खत्म, आइये जानें हमारे स्टार खिलाड़ियों को : सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

टोक्यो ओलंपिक खत्म, आइये जानें हमारे स्टार खिलाड़ियों को : सुभाष गोयल, समाज सेवक एवं एम.डी.वर्धान आर्युवेदिक आर्गेनाइजेशन

आयुर्वेद चिकित्सा में इन तरीकों से करवा सकते हैं इलाज, 100 प्रतिशत मिलेगा लाभ  : डॉ. राजीव कपिला

आयुर्वेद चिकित्सा में इन तरीकों से करवा सकते हैं इलाज, 100 प्रतिशत मिलेगा लाभ : डॉ. राजीव कपिला