Monday, August 08, 2022
BREAKING
Haryana: विधानसभा का मानसूत्र सत्र आज से, हंगामेदार होने के आसार, विपक्ष उठाएगा विधायकों को धमकी का मामला नीति आयोग की मीटिंग खत्म:सीएम भगवंत मान ने एमएसपी पर लीगल गारंटी मांगी; MSP कमेटी फिर बनाने को कहा पंजाब सांसद राघव चड्‌ढा की पहल:मोबाइल नंबर जारी कर बोले- पंजाबी रिकॉर्डिंग या वॉट्सऐप से अपने मुद्दे भेजें, राज्यसभा में उठाऊंगा पंजाब के मरीजों के लिए खुशख़बरी:सोमवार से आयुष्मान भारत स्कीम का लाभ GMCH-32 और GMSH-16 में भी मिलेगा पटियाला सेंट्रल जेल से 19 मोबाइल बरामद:फर्श और दीवार पर छेद बनाकर छुपा रखे थे; सिद्धू और दलेर मेहंदी यहीं बंद पंजाब MP का तिरंगे पर 'पंगा':​​​​​​​सिमरनजीत मान बोले- 14-15 अगस्त को सिख कौम तिरंगा नहीं निशान साहिब लहरा सेल्यूट करे इसरो ने रचा इतिहास, नया रॉकेट एसएसएलवी लॉन्च राष्ट्रमंडल खेल : मुक्केबाज नीतू घंघास और अमित पंघाल ने जीता स्वर्ण एनआईए ने दिल्ली से आईएसआईएस से जुड़े संदिग्ध को किया गिरफ्तार चुनाव आयोग ने जगदीप धनखड़ के उपराष्ट्रपति निर्वाचन प्रमाणन पर किए हस्ताक्षर

चंडीगढ़

रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में किया 0.50 फीसदी का इजाफा

August 05, 2022 11:42 PM

रेपो रेट बढ़कर 5.40 फीसदी पर, -वित्त वर्ष 2022-23 में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.2 फीसदी अनुमानित

दर्पण न्यूज़ सर्विस

मुंबई, 05 अगस्त: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने प्रमुख नीतिगत ब्याज दर रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा किया है। इस बढ़ोतरी के बाद रेपो रेट बढ़कर 5.40 फीसदी हो गया है। मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिवसीय समीक्षा बैठक के बाद आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी।

शक्तिकांत दास ने कहा कि रेपो रेट में इजाफे का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है। रिजर्व बैंक गवर्नर ने बताया कि वित्त वर्ष 2022-23 के लिए रियल सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) विकास अनुमान 7.2 फीसदी है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 16.2 फीसदी, दूसरी तिमाही में 6.2 फीसदी, तीसरी तिमाही में 4.1 फीसदी और और चौथी तिमाही में 4 फीसदी व्यापक रूप से संतुलित जोखिमों के साथ होगा।

उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2023-24 के पहले तिमाही में वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर 6.7 फीसदी रहने का अनुमान है। इसके साथ ही उन्होंने वित्त वर्ष 2022-23 में महंगाई दर 6.7 फीसदी रहने का अनुमान जताया। हालांकि, वित्त वर्ष 2023-24 के पहले तिमाही के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई दर 5 फीसदी रहने का अनुमान है।

दास ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था स्वाभाविक रूप से वैश्विक आर्थिक स्थिति से प्रभावित हुई है। हम उच्च महंगाई दर की समस्या से जूझ रहे हैं। हमने वर्तमान वित्तीय वर्ष के दौरान 3 अगस्त तक 13.3 अरब अमेरिकी डॉलर के बड़े पोर्टफोलियो का प्रवाह देखा है। इससे पहले आरबीआई ने रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा कर 4.90 फीसदी कर दिया था। इस तरह रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष में रेपो रेट में तीसरी बार इजाफा किया है। आरबीआई द्वारा रेपो रेट बढ़ाने से होम और कार लोन जैसे अन्य कर्ज की ईएमआई बढ़ जाएगी।

उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष की पहली एमपीसी समीक्षा बैठक में रेपो रेट को 4 फीसदी पर स्थिर रखा था। लेकिन, आरबीआई ने 2 से 3 मई, 2022 को एमपीसी की आपात बैठक बुलाकर रेपो रेट 0.40 फीसदी बढ़ाकर 4.40 फीसदी कर दिया था। इसके बाद रिजर्व बैंक ने 6 से 8 जून, 2022 को एमपीसी की बैठक में रेपो रेट में 0.50 फीसदी का इजाफा कर 4.90 फीसदी कर दिया। आरबीआई की रेपो रेट में आज की बढ़ोतरी के बाद यह 5.40 फीसदी हो गया है। बैंक नियामक की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा बैठक हर दो महीने में होती है।

Have something to say? Post your comment