Tuesday, October 04, 2022
BREAKING
गुजरात में बदलाव की हवाएँ चल रही हैं और लोग सफलता की नयी इबारत लिखने के लिए उत्साहित : मुख्यमंत्री एस. ए. एस. नगर में निर्मित की जायेगी उत्तरी भारत में अपने किस्म की पहली सुपर ई. सी. बी. सी. अनुरूप इमारत : अमन अरोड़ा पंजाब पुलिस ने आई. एस. आई. की हिमायत प्राप्त ड्रोन आधारित के. टी. एफ. आतंकवादी माड्यूल का किया पर्दाफाश; दो ऑपरेटिव काबू पंजाब को निरोग बनाना राज्य सरकार का मुख्य मिशन : ब्रम शंकर जिम्पा पंजाब पुलिस ने अंतर-राज्यीय ड्रग गिरोह का किया पर्दाफाश; 2.51 लाख फार्मा ओपियाडज़ समेत हरियाणा का एक निवासी गिरफ्तार ‘स्वच्छता सर्वेक्षण अवार्ड’ के लिए पंजाब, देश के पाँच अग्रणी राज्यों में शामिल कुलतार सिंह संधवां ने अलग-अलग मंडियों का दौरा करके धान की खरीद का जायज़ा लिया जौड़ामाजरा ने जांच समिति को पठानकोट घटना की रिपोर्ट मंगलवार तक सौंपने के हुक्म दिए सत्ता व राजनीति में अपनी कार्यप्रणाली से बदलाव के प्रेरक बने मुख्यमंत्री हरियाणा के पहलवानों ने दिखाया अपना दम - बेटों और बेटियों ने कुश्ती में 3 स्वर्ण, 2 रजत और 1 कांस्य पदक जीते

चंडीगढ़

इसरो ने रचा इतिहास, नया रॉकेट एसएसएलवी लॉन्च

August 08, 2022 12:00 AM

दर्पण न्यूज़ सर्विस

नई दिल्ली, 07 अगस्तःभारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक बार फिर इतिहास रच दिया। इसरो ने अपने पहले स्मॉल सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल डेवलपमेंटल फ्लाइट-1 (एसएसएलवी-डी1) का सफल प्रक्षेपण कर दिया है। एसएसएलवी रॉकेट की लॉन्चिंग रविवार सुबह 9 बजकर 18 मिनट पर आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से की गई।

यह प्रक्षेपण भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर 'आजादी का अमृत महोत्सव' को चिह्नित करने के लिए किया गया है।

इस स्मॉल सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल के साथ दो उपग्रह 'पृथ्वी अवलोकन उपग्रह-02' (ईओएस-02) और आजादीसैट उपग्रह जा रहे हैं। ईओएस-02 का वजन 142 किलोग्राम है। यह 10 महीने के लिए अंतरिक्ष में काम करेगा। वहीं आजादीसैट आठ किलो का क्यूबसैट है।

क्यों खास है इसरो का यह मिशन

इसरो ने अंतरिक्ष में सस्ती सवारी की पेशकश करने और बढ़ते छोटे उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में हिस्सेदारी हासिल करने के उद्देश्य से भारत का पहला लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएसएलवी) लॉन्च किया है। इससे पहले इसरो ने अंतरिक्ष में उपग्रहों को लॉन्च करने के लिए पीएसएलवी (पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) और जीएसएलवी (जियो सिंक्रोनस लॉन्च व्हीकल) का इस्तेमाल किया जाता था।

क्या है खासियत

एसएसएलवी की लंबाई 34 मीटर है। यह वॉरहॉर्स पीएसएलवी से 10 मीटर छोटा है और 500 किलोग्राम तक के पेलोड को 500 किमी प्लानर ऑर्बिट में डाल सकता है। चूंकि एसएसएलवी 120 टन के उपग्रह प्रक्षेपण के लिए है, जबकि पीएसएलवी में 320 टन है। एसएसएलवी अपने चौथे चरण में लिक्विड-प्रोपेल्ड वेलोसिटी ट्रिमिंग मॉड्यूल (वीटीएम) का उपयोग करता है और फिर उपग्रह को कक्षा में स्थापित करता है।

कम लागत वाली एवियोनिक्स प्रणाली है एसएसएलवी

सेगमेंट असेंबली को कम करने और इंटीग्रेशन टाइम लॉन्च करने के लिए एक ओपन जॉइंट स्ट्रक्चर वाला बूस्टर मोटर सेगमेंट एसएसएलवी के प्राथमिक लाभों में से एक है। इसके अतिरिक्त, इसमें व्यावसायिक रूप से उपलब्ध, औद्योगिक रूप से उत्पादित घटकों के साथ-साथ त्वरित असेंबली और लॉन्च के लिए एक समान इंटरस्टेज संयुक्त संरचना के साथ एक लघु, कम लागत वाली एवियोनिक्स प्रणाली है। एसएसएलवी में पूरी तरह से घरेलू इलेक्ट्रो-मैकेनिकल एक्ट्यूएटर्स, एक मल्टी-सैटेलाइट एडेप्टर डेक और मल्टी-सैटेलाइट आवास के साथ एक डिजिटल कंट्रोल सिस्टम भी शामिल है।

आजादीसैट उपग्रह को छात्राओं ने किया है डिजाइन

भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर 'आजादी का अमृत महोत्सव' चिह्नित करने के लिए देश भर के सरकारी स्कूलों की छात्राओं ने आजादीसैट उपग्रह को डिजाइन किया है। आजादीसैट में 75 अलग-अलग पेलोड हैं, जिनमें से प्रत्येक का वजन लगभग 50 ग्राम है। देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों की छात्राओं को इन पेलोड के निर्माण के लिए इसरो के वैज्ञानिकों ने मार्गदर्शन दिया था, जिन्हें 'स्पेस किड्स इंडिया' की छात्र टीम ने एकीकृत किया था।

तस्वीरें क्लिक करने के लिए सेल्फी कैमरा

भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र के अनुसार आजादीसैट में अपने स्वयं के सौर पैनलों और लोरा (लॉन्ग रेंज कम्युनिकेशन) ट्रांसपोंडर की तस्वीरें क्लिक करने के लिए एक सेल्फी कैमरा है।

ईओएस-02 अंतरिक्ष में 10 महीने करेगा काम

ईओएस-02 का उपयोग भू-पर्यावरण अध्ययन, वानिकी, जल विज्ञान, कृषि, मिट्टी और तटीय अध्ययन के क्षेत्र में सहायक अनुप्रयोगों के लिए थर्मल विसंगतियों पर इनपुट प्रदान करने के लिए किया जाएगा। यह 10 महीने के लिए अंतरिक्ष में काम करेगा।

Have something to say? Post your comment

और चंडीगढ़ समाचार

150 blood donors donate blood during Raktdaan Amrit Mahotsav celebrations at PGIMER Chandigarh

150 blood donors donate blood during Raktdaan Amrit Mahotsav celebrations at PGIMER Chandigarh

153वीं गांधी जयन्ती पर राज्यपाल ने समाज के विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय भूमिका अदा करने वाले महानुभावों को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा

153वीं गांधी जयन्ती पर राज्यपाल ने समाज के विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय भूमिका अदा करने वाले महानुभावों को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा

रडार को चकमा देने की क्षमता, मिसाइलों से लैस... आज वायुसेना को मिलेगा देश का पहला स्वदेशी लड़ाकू हेलिकॉप्टर

रडार को चकमा देने की क्षमता, मिसाइलों से लैस... आज वायुसेना को मिलेगा देश का पहला स्वदेशी लड़ाकू हेलिकॉप्टर

इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच में हिंसा के बाद मची भगदड़ में 174 की मौत

इंडोनेशिया में फुटबॉल मैच में हिंसा के बाद मची भगदड़ में 174 की मौत

विरोध नहीं, पार्टी की मजबूती के लिए लड़ रहे कांग्रेस अध्यक्ष का चुनावः मल्लिकार्जुन खड़गे

विरोध नहीं, पार्टी की मजबूती के लिए लड़ रहे कांग्रेस अध्यक्ष का चुनावः मल्लिकार्जुन खड़गे

मुलायम सिंह यादव की हालत फिर बिगड़ी, पीएम मोदी ने अखिलेश से जाना हाल

मुलायम सिंह यादव की हालत फिर बिगड़ी, पीएम मोदी ने अखिलेश से जाना हाल

चंडीगढ़ काे स्वच्छता में देश में 12वां रैंक; फास्टेस्ट मूविंग कैपिटल अवार्ड भी मिला

चंडीगढ़ काे स्वच्छता में देश में 12वां रैंक; फास्टेस्ट मूविंग कैपिटल अवार्ड भी मिला

Research Scholar’s Association, ABMS in collaboration with ARD, PGI-NWA and SAPT celebrates Diamond Jubilee Event (season-3) at PGIMER Chandigarh

Research Scholar’s Association, ABMS in collaboration with ARD, PGI-NWA and SAPT celebrates Diamond Jubilee Event (season-3) at PGIMER Chandigarh

Adviser reviews Airforce Show Arrangements

Adviser reviews Airforce Show Arrangements

कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर 36.50 रुपये तक हुआ सस्ता

कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर 36.50 रुपये तक हुआ सस्ता