Wednesday, February 28, 2024
BREAKING
गाजा में रुकेगी लड़ाई! डेढ़ महीने के सीजफायर समझौते के करीब इजरायल और हमास किसान आंदोलन: दिल्ली के सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर थोड़े रास्ते खुले, लेकिन अभी भी ट्रैफिक से नहीं मिल रही बड़ी राहत प्रधानमंत्री ने लगभग 41,000 करोड़ रुपये की 2000 से अधिक रेलवे बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया दैनिक राशिफल 28 फरवरी, 2024 PGI Oral Health Sciences Centre recognised by the International College of Dentists for its community-based oral health care initiatives for the institutionalized elderly भारत टैक्स 2024, भारत और दुनिया के धागों को जोड़ रहा हैः प्रधानमंत्री मोदी गजल सम्राट पंकज उधास ने लंबी बीमारी के बाद 72 साल की उम्र में आखिरी सांस ली तीरअदाजी के एशिया कप में प्रणीत कौर और सिमरनजीत कौर ने पांच पदक जीते मिशन रोजग़ार: दो सालों में मुख्यमंत्री ने पंजाब के नौजवानों को सरकारी नौकरियाँ देकर 40,000 से अधिक परिवारों का जीवन किया रौशन केंद्र की भाजपा सरकार ने देश के अन्नदाता किसान और कृषि दोनों को हाशीये पर धकेला: स्पीकर संधवां

कविता

सुनो, क्या सुना है? तुमने मुझे कभी..... डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

September 02, 2021 08:15 PM

सुनो
क्या सुना है
तुमने मुझे कभी
हर देव दर  पे
जब भी गई
शब्दों की झोली
भर ले गई
सुना ही होगा तुमने
कुछ शब्द निकलकर
जरूर तुम तक पहुँचे होंगे
देखा तो होगा तुमने
झुका शीश तुम्हारे सामने नहीं ?
अच्छा ....
तो क्या देखे नहीं तुमने प्रार्थना में जुड़े मेरे दोनों हाथ भी कभी

जरूर ही देखा होगा तुमने मेरा नवाया शीश ,जुड़े हाथ
घुटनों और पैर के  बल
धरती पे
तुम्हें नमन करते
शब्दों की भरी पोटली
छोड़ देती थी तुम्हारे दर
कुछ शब्द तो उड़कर जरूर पहुँचे होगें तुम तक
बताना जरूर
आस की पतली डोर
अभी भी पकड़ रखी है
क्या सचमुच
तुमने कुछ नहीं देखा
कुछ नहीं सुना
मेरा मौन भी नहीं
मेरे बंद नेत्र भी नहीं
मेरा सशरीर समर्पण
कुछ भी नहीं

अंतहीन आस अब बोझ बनती जा रही है
मैं भी जा रही हूं
निमीलित नेत्र लेकर
कुचली हुई आस
अनंत निद्रा में सौंप
वक़्त के चीर को
 पीछे मुड़कर न देखने की कसम के साथ

धीरे धीरे उठते कदमों से
उड़ने लगी हूँ मैं
सूक्ष्म से सूक्ष्मतर होती हुई अनंत में बिंदु बन
तारों के झुरमुट में
एक और.....

Have something to say? Post your comment

और कविता समाचार

रेशमी धागे  बांधे, रिश्ते हो जाए संबंध पक्के......डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

रेशमी धागे बांधे, रिश्ते हो जाए संबंध पक्के......डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

सच अटल, हिला दे जग सारा, विद्रोही तारा..... डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

सच अटल, हिला दे जग सारा, विद्रोही तारा..... डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

हुई सुबह, जालिम भ्रष्टाचार, अलसाया सा..... डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

हुई सुबह, जालिम भ्रष्टाचार, अलसाया सा..... डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी(सेवानिवृत), हरियाणा सरकार

शहर जागा सहर तक ढूंढता-तुम्हारा पता: डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

शहर जागा सहर तक ढूंढता-तुम्हारा पता: डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

ऊषा नागरी रात करती रही-बातें चांद की: डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

ऊषा नागरी रात करती रही-बातें चांद की: डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

हरित पंथ रेगिस्तानी राही को-सुरम्य रंध्र : डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

हरित पंथ रेगिस्तानी राही को-सुरम्य रंध्र : डॉ. धीरा खंडेलवाल, अडिशनल चीफ सेक्रेटरी, हरियाणा सरकार

सर्द शर्वरी  कंपकंपाते ओंठ आह निर्झरी

सर्द शर्वरी कंपकंपाते ओंठ आह निर्झरी