Thursday, July 18, 2024
BREAKING
NITI Aayog: नीति आयोग की नई टीम गठित, PM मोदी अध्यक्ष, राजनाथ सिंह, अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान भी शामिल Kedarnath Temple: 'केदारनाथ से 228 किलो सोना गायब' शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद का दावा Delhi-NCR Weather Update: चलेगी आंधी... गरजेगी बिजली, एनसीआर में बारिश की संभावना; हफ्ते भर ऐसा रहेगा मौसम दैनिक राशिफल 18 जुलाई, 2024 US की चेतावनी के बावजूद साथ आए चीन और रूस, नाटो मीटिंग के बाद सैन्य अभ्यास की शुरुआत CAA: 2015 के बाद आए लोगों को वापस भेजा जाएगा... CAA को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दी यह चेतावनी Flood Alert: इस राज्य की सभी नदियों में बह रहा खतरे से ऊपर पानी, दिल्ली-NCR में छह दिनों तक होगी झमाझम बारिश दैनिक राशिफल 17 जुलाई, 2024 मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बिजली उत्पादन, पारेषण और वितरण की अद्यतन स्थिति व भविष्य के दृष्टिगत जारी प्रयासों की समीक्षा की Birmingham Nightclub Shooting:ट्रंप की हत्या की कोशिश के बाद फिर दहला अमेरिका! बर्मिंघम नाइट क्लब में गोलीबारी से 4 लोगों की मौत, कई घायल

चंडीगढ़

दावा-4 रातों से सोया नहीं था मालगाड़ी का लोको पायलट:नियम लगातार सिर्फ 2 रात ड्यूटी का; रंगापानी के स्टेशन मास्टर की जांच की मांग

June 19, 2024 08:34 AM

सिटी दर्पण

नई दिल्ली, 18 जून:कंचनजंगा ट्रेन दुर्घटना के बाद से रेलवे बोर्ड मालगाड़ी के लोको पायलट पर हादसे का दोष मढ़ रहा है। बोर्ड का कहना है कि लोको पायलट ने रंगापानी स्टेशन से टीए 912 अथॉरिटी पास लेने के बाद मालगाड़ी को खराब सिग्नलों के बीच तय लिमिट से ज्यादा गति से निकाला, इसलिए हादसा हुआ।

इस पर ऑल इंडिया रनिंग लोको स्टाफ एसोसिएशन के उपाध्यक्ष एसएस ठाकुर ने दैनिक भास्कर को बताया कि सिग्नल फेल होने पर जिस वैकल्पिक फार्म टीए 912 के जरिए ट्रेनें चलाई जाती हैं, उससे जुड़ा नियम ये भी है कि जब तक आगे वाली ट्रेन अगला स्टेशन पार न कर ले, तब तक दूसरी ट्रेन को पिछले स्टेशन से आगे नहीं बढ़ाते हैं।

रंगापानी स्टेशन पर यही गलती हुई। यहां के स्टेशन मास्टर ने कंचनजंगा के आगे बढ़ने के 15 मिनट बाद ही मालगाड़ी को टीए 912 पेपर दे दिया था। जबकि उस वक्त कंचनजंगा एक्सप्रेस कुछ किमी आगे ट्रैक पर खड़ी थी। स्टेशन मास्टर की इस गलती की भी जांच होनी चाहिए।

उन्होंने यह भी कहा कि जिस लोको पायलट पर हादसे का दोष मढ़ा जा रहा है, वो लगातार 4 रातों से सोया नहीं था। जबकि नियम अधिकतम लगातार 2 रात ड्यूटी का है। सिग्नल खराब होने की स्थिति में लोको पायलट्स को गाड़ी कैसे चलानी है, इसकी पर्याप्त ट्रेनिंग नॉर्थ-ईस्ट जोन के लोको स्टाफ को आज तक नहीं दी गई है।

इस हादसे में अब तक 10 लोगों की मौत चुकी है। 41 का इलाज जारी है।
इस हादसे में अब तक 10 लोगों की मौत चुकी है। 41 का इलाज जारी है।

मालागाड़ी की रफ्तार 78 किमी प्रति घंटा थी
ठाकुर ने आगे कहा कि लोको पायलटों को दोषी बताने की परंपरा पुरानी है। ओडिशा में हुए कोरोमंडल रेल हादसे के बाद कहा गया कि लोको पायलट और को-पायलट मोबाइल पर क्रिकेट देख रहे थे, इसी वजह से वो सिग्नल नहीं देख पाए। जबकि, कमिश्नर सेफ्टी की जांच में पता चला कि हादसे के दो घंटे पहले से दोनों के फोन स्विच ऑफ थे।

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के मुख्य सुरक्षा आयुक्त जनक कुमार गर्ग ने दावा किया कि स्पीडोमीटर की शुरुआती जांच में पता चला है कि हादसे के वक्त मालगाड़ी की रफ्तार 78 किमी प्रति घंटा थी। वहीं, इस घटना में घायल हुई 6 साल की स्नेहा की 18 जून को मौत हो गई। इससे मृतक संख्या 10 हो गई है।

हादसे के कारण का पता लगाने के लिए जांच
कंचनजंगा ट्रेन हादसे को लेकर एक महिला पैसेंजर ने मालगाड़ी के दोनों ड्राइवरों (लोको और को-लोको पायलट) के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। शिकायतकर्ता का नाम चिन्मय मजूमदार है। वे कंचनजंगा एक्सप्रेस में बैठी थीं। हादसे में चिन्मय को भी चोटें आई हैं।

चिन्मय ने अपनी शिकायत में लिखा- जब मैं ट्रेन से नीचे उतरी तो देखा कि मालगाड़ी ने कंचनजंगा एक्सप्रेस को पीछे से टक्कर मारी। मालगाड़ी का इंजन बुरी तरह डैमेज हो गया था। हादसा मालगाड़ी के लोको और को-लोको पायलट की लापरवाही से हुआ।

उधर, नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर रेलवे हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए बुधवार (19 जून) को इन्क्वायरी करेगा। ये जांच चीफ कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी जनक गर्ग ADRM चेंबर में करेंगे। इसके लिए हादसे से जुड़े सबूतों को जांच अधिकारी के पास भेजने को कहा गया है। साथ ही कुछ लोगों को बुलाया भी गया है।

हादसे की 2 तस्वीरें...

 
 

रूट की 7 ट्रेनें कैंसिल, 37 ट्रेनें डायवर्ट
फिटनेस टेस्ट पास करने के बाद कंचनजंगा ट्रेन 18 जून की देर रात करीब 3.15 बजे सियालदह पहुंची। हालांकि, हादसे के कारण इस रूट से जाने वाली 7 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया। साथ ही, 37 ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया गया।

NFR DRM सुरेंद्र कुमार ने कहा- 17 जून की रात से लगातार बारिश हो रही थी, फिर भी लाइन को बहाल करने के लिए काम जारी है। लगभग 90% काम हो चुका है, दोपहर तक दोनों ट्रैक पर ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा।

पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में 17 जून की सुबह 8:55 बजे एक मालगाड़ी ने कंचनजंगा एक्सप्रेस (13174) को पीछे से टक्कर मार दी थी। रेलवे के मुताबिक इस हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हो गई है। जबकि घायल हुए 41 पैसेंजर्स का इलाज चल रहा है।

दावा- जब हादसा हुआ, उसके 3 घंटे पहले से सिग्नल खराब था

  • न्यूज एजेंसी PTI के मुताबिक रानीपात्रा रेलवे स्टेशन और छत्तर हाट जंक्शन के बीच ऑटोमेटिक सिग्नलिंग सिस्टम सुबह 5.50 बजे से ही खराब था। कंचनजंगा एक्सप्रेस सुबह 8:27 बजे रंगापानी स्टेशन से रवाना हुई और रानीपात्रा स्टेशन से छत्तर हाट के बीच रुकी रही।
  • जब सिग्नलिंग सिस्टम में खराबी आती है तो स्टेशन मास्टर TA-912 रिटन अथॉरिटी जारी करता है। यह ड्राइवर को खराबी के कारण सभी रेड सिग्नल पार करने का अधिकार देता है। रानीपात्रा के स्टेशन मास्टर ने कंचनजंगा एक्सप्रेस को TA-912 जारी किया था। ट्रेन 10 मिनट यहां रुकी रही। 8:42 बजे रंगापानी से निकली मालगाड़ी 8.55 पर कंचनजंगा एक्सप्रेस से भिड़ गई।
  • सूत्रों के मुताबिक, केवल जांच से ही पता चल सकता है कि क्या मालगाड़ी को खराब सिग्नल को तेज गति से पार करने के लिए TA-912 भी दिया गया था या यह लोको पायलट की गलती थी, जिसने डिफेक्टिव सिग्नल नॉर्म का उल्लंघन किया।
  • यदि दूसरी कंडीशन अप्लाई होती है तो रेलवे के नियम के मुताबिक, ड्राइवर को हर डिफेक्टिव सिग्नल पर एक मिनट के लिए ट्रेन को रोकना चाहिए था। इतना ही नहीं, इस दौरान ट्रेन की स्पीड भी 10 किमी प्रति घंटे की होनी चाहिए थी।

घायलों और मरने वालों के परिवारों को मिलेगा मुआवजा
रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने घटना में जान गंवाने वाले परिवारों को 10 लाख रुपए, गंभीर घायलों को 2.50 लाख रुपए और मामूली घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की। इसके अलावा हादसे में मारे गए लोगों को प्रधानमंत्री राहत कोष से 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए मदद का ऐलान किया गया है।

Have something to say? Post your comment

और चंडीगढ़ समाचार

Afghanistan अफगानिस्तान में बाढ़ और तूफान ने मचाई तबाही, एक ही दिन में 40 की मौत, 250 से ज्यादा घायल

Afghanistan अफगानिस्तान में बाढ़ और तूफान ने मचाई तबाही, एक ही दिन में 40 की मौत, 250 से ज्यादा घायल

NITI Aayog: नीति आयोग की नई टीम गठित, PM मोदी अध्यक्ष, राजनाथ सिंह, अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान भी शामिल

NITI Aayog: नीति आयोग की नई टीम गठित, PM मोदी अध्यक्ष, राजनाथ सिंह, अमित शाह और शिवराज सिंह चौहान भी शामिल

Kedarnath Temple: 'केदारनाथ से 228 किलो सोना गायब' शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद का दावा

Kedarnath Temple: 'केदारनाथ से 228 किलो सोना गायब' शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद का दावा

Delhi-NCR Weather Update: चलेगी आंधी... गरजेगी बिजली, एनसीआर में बारिश की संभावना; हफ्ते भर ऐसा रहेगा मौसम

Delhi-NCR Weather Update: चलेगी आंधी... गरजेगी बिजली, एनसीआर में बारिश की संभावना; हफ्ते भर ऐसा रहेगा मौसम

US की चेतावनी के बावजूद साथ आए चीन और रूस, नाटो मीटिंग के बाद सैन्य अभ्यास की शुरुआत

US की चेतावनी के बावजूद साथ आए चीन और रूस, नाटो मीटिंग के बाद सैन्य अभ्यास की शुरुआत

CAA: 2015 के बाद आए लोगों को वापस भेजा जाएगा... CAA को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दी यह चेतावनी

CAA: 2015 के बाद आए लोगों को वापस भेजा जाएगा... CAA को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दी यह चेतावनी

Jagannath Temple Treasure: जगन्‍नाथ मंदिर खजाना: भंडार में क्या मिला और कौन करेगा रत्‍नों की गिनती

Jagannath Temple Treasure: जगन्‍नाथ मंदिर खजाना: भंडार में क्या मिला और कौन करेगा रत्‍नों की गिनती

Flood Alert: इस राज्य की सभी नदियों में बह रहा खतरे से ऊपर पानी, दिल्ली-NCR में छह दिनों तक होगी झमाझम बारिश

Flood Alert: इस राज्य की सभी नदियों में बह रहा खतरे से ऊपर पानी, दिल्ली-NCR में छह दिनों तक होगी झमाझम बारिश

हरियाणा के मुख्यमंत्री से त्रिनिदाद एवं टोबैगो के मंत्री ने की मुलाकात

हरियाणा के मुख्यमंत्री से त्रिनिदाद एवं टोबैगो के मंत्री ने की मुलाकात

Birmingham Nightclub Shooting:ट्रंप की हत्या की कोशिश के बाद फिर दहला अमेरिका! बर्मिंघम नाइट क्लब में गोलीबारी से 4 लोगों की मौत, कई घायल

Birmingham Nightclub Shooting:ट्रंप की हत्या की कोशिश के बाद फिर दहला अमेरिका! बर्मिंघम नाइट क्लब में गोलीबारी से 4 लोगों की मौत, कई घायल